Radha Krishna Status in Hindi || Radha Krishna Shayari 2020 Collection


Radha Krishna Status in Hindi - दोस्तों आज के इस God Status के कलेक्शन मे हम Radha Krishna Status in Hindi शेयर करेंगे। जैसा की दोस्तों  आप सभी को मालूम है की ये वेबसाईट यानी की Statusrace.com नई - नई Hindi Status, Quotes, Hindi Shayari, और  Motivational Quotes, इत्यादि को शेयर करते या रही है और आगे करते ही रहेगी। तो दोस्तों चलिए बिना समय गवाये आगे बढ़ते है इस लेख की तरफ।

दोस्तों आज के इस लेख मे Radha Krishna Shayari and Status तो जानेंगे ही पर और भी बहुत कुछ जानेंगे Radha Krishna जी के बारे मे। दोस्तों अगर आप सिर्फ Radha Krishna Status के लिए आए है तो इस लेख को थोड़ा नीचे कीजिए आपको Radha Krishna Love Shayari और Status मिल जाएगा। पर आप Radha Krishna जी की कहानी भी जानना चाहते है तो इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ते रहिए।

Radha Krishna Status in Hindi




दोस्तों, राधा कृष्ण की प्रेम कहानी कई सदियों से चली या रही है जब भी कभी प्रेम कहानी (प्रेम की दास्ताँ) का जिक्र हुआ हैं, दोस्तों यहाँ पे प्रेम की दास्ताँ के जिक्र का मतलब ( अमर प्रेम की दास्ताँ का जिक्र) हुआ है तो इसमे सबसे पहले राधा कृष्ण की प्रेम कहानी की चर्चा सबसे पहले हुई है।

हिन्दू धर्म में सच्चे प्रेम की कहानी का उदाहरण हमेशा से भगवान श्री राधा कृष्ण की मिलन और फिर बिछरन की की जाती है। ( Radha Krishna Love Shayari) क्यूंकी सच्चा प्रेम तो अनमोल होता हैं इसमे प्रेम को पाना या प्यार को खो देना कुछ नहीं होता। सच्चा प्रेम मे कुछ पाया या कुछ खोया नहीं जाता, और जहां पाने या खोने की बात होती है वह प्रेम कभी नहीं होता।

ऐसे ही भगवान श्री राधा कृष्ण की प्रेम की कहानी बचपन से शुरू हुई थी पर कभी उनका साथ मे विवाह नहीं हो पाया और वह दोनों एक प्रेमी प्रेमिका रह गए और उनकी प्रेम की कहानी प्रचलित हो गई। Radha Krishna ki Shayari

कहाँ जाता है की कृष्ण की उम्र राधा की उम्र से छोटी थी पर सच्चे प्रेम उम्र और दायरे नहीं देखा जाता यह बात उन्होंने सच कर ही दी। "रुक्मिणी और राधा" कृष्ण के जीवन मे दोनों बड़ी महत्वपूर्ण  महिलाएं थीं। वही रुक्मिणी का प्रेम सफल रहा और कृष्ण के साथ रुक्मिणी की विवाह हो गई पर  राधा सिर्फ प्रेमिका बनकर रह गई।


पुराणों के अनुसार देवी राधा के रूप में देवी लक्ष्मी ने धरती पर अवतार यानी की "जन्म" लिया था। और साथ मे ये बाथ भी सच है की भगवान श्री कृष्ण जी स्वयं विष्णु जी के अवतार थे। पौराणिक मतों के अनुसार भगवान श्री कृष्ण राधा और  वैवाहिक नहीं बल्कि आध्यात्मिक रिश्ता था।


Radha Krishna Status in Hindi


Radha Krishna Shayari, Radha Krishna Status in Hindi, Radha Krishna LoveShayari, Radha Krishna Shayari in Hindi, Radha Krishna Ki Shayari, Radha Krishna Shayari Pic, Radha Krishna Shayari Image, Do Line Shayari



राधा ने कृष्ण से विवाह क्यू नहीं की?


दोस्तों आपलोग ये तो जानते ही है की भगवान विष्णु जी इस पृथ्वी पर बार - बार अवतार लेते रहते थे। इस कारण उनकीपत्नी देवी लक्ष्मी जी की भी ये इकक्षा हुई की वह भी भगवान विष्णु जी के साथ पृथ्वी पे अवतार ले। और भगवान विष्णु जी के साथ उनके धर्म के कार्य मे सहयोगी बने।

इसीलिए त्रेता युग मे भगवान विष्णु ने जब श्री राम का अवतार लिया तो देवी लक्ष्मी जी ने देवी सीता के रूप मे पृथ्वी पे जन्म लिया था। उसके बाद देवी लक्ष्मी जी ने फिर से द्वापा युग मे फिर से देवी रुक्मणी के रूप मे भगवान श्री कृष्ण जी के साथ पृथ्वी पे अवतरित हुई थी।

द्वापा युग मे देवी लक्ष्मी जी ने रुक्मणी जी के रूप मे विधर्व राज्य के राजा भिस्मक के यहा उनकी पुत्री के रूप मे जन्म लिया था और रुक्‍्मणी के जन्म से राजा भिस्मक बहुत खुस हो गए थे। परंतु रुक्मणी के जन्म से कुछ ही महीने बाद ही एक पूतना नाम की राक्षसी रुक्मणी को मरने के लिए राजा भिस्मक के महल मे या गई थी।

ये पूतना वही राक्षसी थी जिसने कंस के कहने पर भगवान श्री कृष्ण को बचपन मे अपना जहरीला स्थन पान करवाकर मरने की कोशिश की थी। वह राक्षसी भगवान श्री कृष्ण के स्थन पान मृत्यु को प्राप्त हो गई थी।

राक्षसी पूतना ने अपने उन्ही जहरीले स्थन का पान रुक्मणी जी को भी कराने की कोशिश की थी, पर देवी रुक्मणी ने उसकी बहुत कोशिश के बाद भी उसका स्थन पान नहीं किया था।

पूतना जब देवी रुक्मणी को अपना स्थन पान कराने का असफल प्रयास कर रही थी की तभी कुछ लोग महल के अंदर आ गए थे, अचानक लोगों के इस तरह या जाने के कारण राक्षसी पूतना देवी रुक्मणी को लेकर आसमान मे  उड़ गई।

ये देखकर लोगों ने राक्षसी पूतना का बहुत दूर तक पीछा किया, परंतु राक्षसी पूतना देवी रुक्मणी को लेकर आसमान मे बहुत ऊपर उड़ गई। ये देखकर सभी ने देवी रुक्मणी के जीवित रहने की आश छोड़ दी थी।

लेकिन इधर जब पूतना आकाश मे जब ऊपर उड़ रही थी तो देवी रुक्मणी ने अपने - आप को उस पूतना राक्षसी से आजाद कराने क लिए अपना वजन बढ़ाना शुरू कर दिया था। और देवी रुक्मणी ने अपना वजन इतना बढ़ा लिया था की पूतना राक्षसी को उनका भाड़ उठा पाना मुस्किल हो रहा था, इसलिए उसने देवी रुक्मणी को अपने हाथ से छोड़ दिया था।

इस कारण पूतना के हाथ से छूटकर देवी रुक्मणी आसमान से पृथ्वी पे आकार एक सरोवेर मे कमल के फूल पर विराजमान हो गई थी

राक्षसी पूतना के कारण विधर्व राज्य के राजकुमारी देवी रुक्मणी मथुरा राज्य के एक गाव बरसाना के पास एक सरोवेर मे आ के गिरी थी। और उसी समय बरसाना के एक निवशी वृषवान अपने पत्नी कृति देवी के साथ उस सरोवेर के किनारे से गुजर रहे थे।

तो उन दोनों की नजर सरोवेर के एक कमाल के फूल पर विराजमान उस बच्ची रुक्मणी पर परजाती है। तो वृषवान और उनकी पत्नी देवी रुक्मणी को उठाकर अपने साथ ले जाते है। और वह उसको अपनी बेटी बनाकर उसका पालन पोशन करने लगते है, और उसका नाम राधा रख देते है।

राधा जी जब बड़ी होती है तो उनकी मुलाकात होती है गोकुल के भगवान श्री कृष्ण से। दोस्तों आपलोग राधा जी और कृष्ण की के अटूट प्रेम और रासलीला के बारे मे तो जानते ही होंगे। और ये भी जानते होंगे की एक समय विवश होकर भगवान श्री कृष्ण जी अपने गोकुल और राधा जी को छोड़कर द्वारिकापुर चले गए थे।

तब भगवान श्री कृष्ण जी ने ये सोच था की वापस आने के बाद वो अपनी राधा के साथ विवाह कर के उन्हे अपने पत्नी बनाएंगे। परंतु उनके जाने के कुछ समय बाद ही विधर्व राज्य के राजा को ये पता चल जाता है की राधा उनकी पुत्री रुक्मणी है।

वह वर्षाना आकार अपनी बेटी रुक्‍्मणी को अपने राज्य लेकर चले जाते है। विधर्व राज्य भगवान श्री कृष्ण के दुश्मनों का राज्य था। इसलिए वह लोग देवी रुक्मणी के शादी किसी और के साथ करा देना चाहते थे।

इसी कारण भगवान श्री कृष्ण ने अपनी रुक्मणी जो की उनकी राधा भी थी उनका हरण कर के उन्हे अपनी पत्नी बना लिया था।

दोस्तों इस कहानी को सुनकर आप समझ ही गए होंगे की राधा जी और रुक्मणी जी एक ही थी इसलिए जब भगवान श्री कृष्ण ने रुक्मणी के साथ विवाह किया था तो वह राधा जी के साथ विवाह कैसे करते।

इसलिए हमारे पुरानो मे भी जबतक राधा जी और श्री कृष्ण की का नाम आता है तब तक रुक्‍्मणी जी का कोई नाम नहीं आता है। और जब भगवान श्री कृष्ण रुक्मणी जी के साथ विवाह कर लेते है, तो उसके बाद राधा जी का कोई नाम नहीं आता है

दोस्तों मैंने अभी आप सभी को राधा कृष्ण जी के प्रेम कथा के बारे मे कुछ बातें बताई है पर अब हम Radha Krishna Status in Hindi बताने जा रहे है जिसे आप अपने सोशल मीडिया या कही पर भी शेयर कर सकते है।

Radha Krishna Shayari and Status in Hindi 2020


प्यार दो आत्माओं का मिलन होता है, ठीक वैसे हीं जैसे……….
प्यार में कृष्ण का नाम राधा और राधा का नाम कृष्ण होता है….!!


Radha Krishna Status in Hindi




पीर?लिखो तो,  मीरा जैसी, मिलन?लिखो तो, राधा सा,,
दोनो में सब पूरा सा, दोनो में कुछ आधा सा भक्ति?लिखो तो मीरा?सी,,,,
प्रीत?लिखो तोराधा?सी मन कृष्णा सा, जय श्री कृष्णा,,,



हे मन, तू अब कोई तप कर ले,,,,,
एक पल में सौ-सौ बार कृष्ण नाम का जप कर ले.,,,,,,
जय श्री राधे-कृष्णा…!!



राधा-राधा जपने से हो जाएगा तेरा उद्धार,,,,,,,
क्योंकि यही वही वो नाम है जिससे कृष्ण को प्यार.,,,,,,,, 


जो है माखन चोर, जो है मुरली वाला,,,,
वही है हम सबके दुःख दूर करने वाला.,,,,,,,,,,,,



Radhe Krishna Shayari & status SMS 



माना कि मुझमे मीरा सी..कोई कशिश नही,,,,
गोपी के जैसे रो सकू..वो जज्बात नही,,,,
एकबार मेरे साँवरे इस..दिल की भी सुनो,,,
मेरे राधा कृष्णा मुरारी….!



राधा की कृपा, कृष्णा की कृपा, जय पे हो जाए,
भगवान को पाए, मौज उड़ाए…. सब सुख पाए….!!
जय श्री राधे**



राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आएंगे,,,,,,,,
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे.,,,,,! 


Radha Krishna Status in Hindi



राधा कृष्ण का मिलन तो बस एक बहाना था,
दुनियाँ को प्यार का सही मतलब जो समझाना था।



कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा,
पुरे खत में सिर्फ कान्हा कान्हा नाम लिखा।






प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं,
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं। 


प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं,
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं।


कितने सुंदर नैन तेरे ओ राधा प्यारी,
इन नैनों में खो गये मेरे बांकेबिहारी। 


Radha Krishna Status in Hindi



हे कान्हा, तुम संग बीते वक़्त का मैं कोई हिसाब नहीं रखती
मैं बस लम्हे जीती हूँ, इसके आगे कोई ख्वाब नहीं रखती। 


जब सुकून ना मिले दिखावे की बस्ती में
तब खो जाना मेरे श्याम की मस्ती में।



हर पल, हर दिन कहता हैं कान्हा का मन
तू कर ले पल-पल राधा का सुमिरन। 



पर्दा ना कर पुजारी दिखने दे राधा प्यारी ,
मेरे पास वक्त कम हैं, और बाते हैं ढेर सारी। 


अधुरा है मेरा इश्क तेरे नाम के बिना,
जैसे अधूरी है राधा श्याम के बिना… 



बहुत खूबसूरत है मेरे
ख्यालों की दुनिया,
बस कृष्ण से शुरू और
कृष्ण पर ही खत्म।



हे कान्हा !
मैं कौन सा ऐसा कर्म करूं
कि तेरे चरणों में जगह पा जाऊं
छोड़ कर दुनिया को मै तुझ में
समा जाऊं….
कर दे कुछ ऐसी कृपा की नजर
कि मै मुझ में ही तुझ को पा जाऊं!



प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं,
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं। 

Radha Krishna Status in Hindi




कितने सुंदर नैन तेरे ओ राधा प्यारी,
इन नैनों में खो गये मेरे बांकेबिहारी।



कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी,
जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी।



हे कान्हा, तुम संग बीते वक़्त का मैं कोई हिसाब नहीं रखती
मैं बस लम्हे जीती हूँ, इसके आगे कोई ख्वाब नहीं रखती।


राधा-राधा जपने से हो जाएगा तेरा उद्धार,
क्योंकि यही वही वो नाम हैं जिससे कृष्ण को हैं प्यार। 



अगर तुमने राधा के कृष्ण के प्रति समर्पण को जान लिया,
तो तुमने प्यार को सच्चे अर्थों में जान लिया।



हर पल, हर दिन कहता हैं कान्हा का मन
तू कर ले पल-पल राधा का सुमिरन।



संगीत है श्रीकृष्ण, सुर है श्रीराधे
शहद है श्रीकृष्ण, मिठास है श्रीराधे
पूर्ण है श्रीकृष्ण, परिपूर्ण है श्रीराधे
आदि है श्रीकृष्ण, अनंत है श्रीराधे 



पाने को ही प्रेम कहे,
जग की ये है रीत..
प्रेम का सही अर्थ समझायेगी
राधा-कृष्णा की प्रीत।



नन्दलाल की मोहनी सूरत दिल में बसा रखे हैं,
अपने जीवन को उन्ही की भक्ति लगा रखे हैं,
एक बार बाँसुरी की मधुर तान सुनादे कान्हा,
एक छोटी से आस लगा रखे हैं. 



“राधा” के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं,
कान्हा से पहले लोग लेते “राधा” का नाम हैं. 



Radha Krishna Status in Hindi



जिस पर राधा को मान हैं,
जिस पर राधा को गुमान हैं,
यह वही कृष्ण हैं जो राधा
के दिल हर जगह विराजमान हैं. 



प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं.
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं.


राधा-कृष्णा ही प्रेम की सबसे अच्छी परिभाषा है,
बिना कहे जो समझ में आ जाए, प्रेम ऐसी भाषा है.


कितना भी धन-दौलत पा लो
पर भूख नहीं मिटटी तृष्णा की,
उसको जीवन का सारा धन मिल जाता है
जो भक्ति करें राधा के कृष्णा की.



राधा ने श्री कृष्ण से पूछा
प्यार का असली मतलब क्या होता है..?
श्री कृष्णा ने हंस कर कहा
जहा मतलब होता है वहां प्यार ही कहा होता है..! 


हे कान्हा
जी भर के तुम्हे देखूं,
कुछ ऐसा नज़ारा हो,
बेताबी मेरी नज़र में हो,
और चेहरा तुम्हारा हो !



हे कान्हा!
यूँ ही नहीं दिल ढूँटता बार बार,
एक हिस्सा है मेरा जो बसता है तुझमें…



आज फिर याद आ गए कान्हा मुझे ..
तुमसे मिलने के कुछ प्यारे लम्हे
फिर से तेरा चेहरा सामने नजर आया
झील के नीले-नीले पानी में…!



हे कान्हा !
रूबरू होने का मौका रोज कहाँ मिलता है…
इसलिए मैं तुम्हे शब्दों से छू लेती हूँ…!



हे कान्हा !
घड़ी की सुईओं जैसा रिश्ता तेरा मेरा,
कभी मिले.. न मिले,
पर साथ हमेशा जुड़े रहे..!



कृष्ण ने राधा से पूछा
कि एक जगह बताओ यहाँ में नहीं हूँ.
राधा ने मुस्कुराते हुए कहा
की मेरे नसीब में…!


तो दोस्तों ये थे कुछ Radha Krishna Shayari जिन्हे पढ़कर आपका भी मन प्रेम मे डूब गया होगा। तो दोस्तों कैसा लगा ये "Radha Krishna Status" और कहानी मुझे आशा है की आप सब को पढ़कर बहुत खुशी मिली होगी। आप हमे कमेन्ट बॉक्स मे जरूर बताइए गा। 

0 Reviews:

Post a Comment

  1. Most Recent

Follow Us